इंडियन क्रिकेट टीम में जगह पाने के लिये सरफराज़ को कब तक करना पड़ेगा इन्तेज़ार, जानिये कौन हैं सुपरस्टार सरफराज

0
24513

अंडर-19 वर्ल्ड कप में भारतीय टीम के सबसे सफल बल्लेबाज रहे सरफराज खान को भारतीय क्रिकेट का अगला सुपरस्टार माना जा रहा है, बेहद प्रतिभाशाली सरफराज क्यों हैं भारतीय क्रिकेट के लिए खास, जानिए.

आईपीएल 2015 में एक 17 वर्षीय बल्लेबाज की बैटिंग से खुश होकर विराट कोहली ने हंसते हुए अपने दोनों हाथ आगे बढ़ाकर उसके आगे अपना सिर झुका दिया था. कोहली किसी के सामने सिर झुकाएं तो जाहिर है कि वह कोई आम नहीं खास खिलाड़ी ही होगा. इस बल्लेबाज का नाम था सरफराज खान, जिसने रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु की तरफ से खेलते हुए अपने दूसरे ही आईपीएल मैच में राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ महज 21 गेंदों पर 45 रनों की मैच जिताऊ पारी खेलकर अपने कप्तान कोहली का दिल जीत लिया था.

अब यही सरफराज खान एक बार फिर सुर्खियों में हैं. वह अंडर-19 वर्ल्ड कप के इतिहास में सबसे ज्यादा हाफ सेंचुरी बनाने वाले बल्लेबाज बन गए हैं. हाल ही में खत्म हुए अंडर-19 वर्ल्ड कप में भले ही टीम इंडिया हार गई हो लेकिन अपनी जोरदार बल्लेबाजी से सरफराज ने अपनी चमक बिखेर दी. 18 वर्षीय इस बल्लेबाज ने इस टूर्नामेंट में 5 हाफ सेंचुरी जड़ी और टीम इंडिया के सबसे भरोसेमंद बल्लेबाज साबित हुए. उन्हें आने वाले वर्षों में भारतीय क्रिकेट के सबसे बड़े सितारों में से एक माना जा रहा है. आइए जानें क्यों भारतीय क्रिकेट के लिए खास हैं सरफराज खान.

Sarfaraz-Khan-India-Team12 वर्ष की उम्र में तोड़ा था सचिन का रिकॉर्डः

उनका नाम पहली बार तब सुर्खियों में आया था, जब उन्होंने 12 वर्ष की उम्र में सचिन तेंडुलकर का रिकॉर्ड तोड़ा था. 2009 में हैरिश शील्ड स्कूल टूर्नामेंट में रिजवी स्प्रिंगफील्ड स्कूल की तरफ से खेलते हुए सरफराज ने 439 रन की जोरदार पारी खेली थी. सरफराज ने इस पारी के साथ ही हैरिस शील्ड में सचिन द्वारा खेली गई 346 रन की पारी को पीछे छोड़ दिया था. 56 चौकों और 12 छक्कों से सजी सरफराज की यह पारी हैरिस शील्ड के 112 वर्षों के इतिहास में सबसे बड़ी पारी थी. हालांकि बाद में सरफराज का रिकॉर्ड मुंबई के ही बल्लेबाज पृथ्वी शॉ ने 546 रन की पारी खेलते हुए तोड़ दिया था.

आईपीएल में भी छाए सरफराजः

2015 के सीजन में आईपीएल की टीम रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु ने 17 वर्षीय सरफराज खान को 50 लाख रुपये में खरीदा. वह आईपीएल खेलने वाले सबसे युवा खिलाड़ी बन गए. सरफराज ने आईपीएल में बेंगलुरु के लिए खेलते हुए अपनी प्रतिभा की छाप छोड़ी. वैसे आईपीएल में मिले 50 लाख रुपये से जुड़ी एक और कहानी है. आईपीएल में मौका मिलने से पहले सरफराज को उनके छोटे भाई मुशीर और पापा नौशाद के साथ एक ही बाइक पर ट्रेनिंग के लिए जाना पड़ता था.

एक बाइक पर रोज तीन लोगों का घंटो का सफर काफी मुश्किलों भरा था लेकिन उनके सामने समस्या ये थी कि उनके पार कार खरीदने के पैसे नहीं थे. इसलिए जब सरफराज को आईपीएल में 50 लाख रुपये में खरीदा गया तो उन्होंने सबसे पहले अपने पापा को एक कार गिफ्ट की. सरफराज ने तब कहा था कि पापा वर्षों से हमारे लिए कडी मेहनत कर रहे हैं, अब मेरा पास उनके लिए कुछ करने का मौका आया है.

अंडर-19 वर्ल्ड कप में रचा इतिहासः

सरफराज का बल्ला वक्त बीतने के साथ और रन उगल रहा है. हाल ही में खत्म हुए अंडर-19 वर्ल्ड कप में सरफराज भारतीय टीम के सबसे बड़े स्टार साबित हुए. उन्होंने इस टूर्नामेंट में सबसे ज्यादा 5 हाफ सेंचुरी जड़ीं. फाइनल में वेस्ट इंडीज के खिलाफ जब बाकी भारतीय बल्लेबाज फ्लॉप हो गए थे तब भी सरफराज ने ही एक छोर संभालते हुए हाफ सेंचुरी बनाई और इसकी बदौलत ही भारतीय 145 के स्कोर तक पहुंच सकी. इस टूर्नामेंट में 5 हाफ सेंचुरी बनाने के अलावा 2014 के अंडर-19 वर्ल्ड कप में भी सरफराज खान दो हाफ सेंचुरी बना चुके हैं. यानी अब उनके नाम अंडर-19 वर्ल्ड कप में सबसे ज्यादा हाफ सेंचुरी (7) बनाने का वर्ल्ड रिकॉर्ड दर्ज है.

सरफराज को विरासत में मिली है क्रिकेटः

सरफराज खान को क्रिकेट रगो में बहती मिली है. उनके पिता नौशाद मुंबई में क्रिकेट के जाने-माने कोच हैं. मूलतः उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ के रहने वाले नौशाद ने क्रिकेटर बनने के लिए मुंबई का रुख किया था. खैर नौशाद का क्रिकेटर बनने का सपना अधूरा ही रह गया लेकिन उन्होंने मुंबई क्रिकेट के कई खिलाड़ियों को कोचिंग दी जिनमें कामरान खान और इकबाल अब्दुल्ला जैसे नाम भी शामिल हैं.

नौशाद अपने अधूरे सपनों को अपने बेटों को कोचिंग देकर पूरा करने की कोशिशों में लगे हैं. वह अपने दोनों बेटों सरफराज और मुशीर को कोचिंग देते हैं. सरफराज का छोटा भाई मुशीर खान बाएं हाथ का स्पिनर हैं और उसे भी वंडर किड कहा जाता है. मुशीर 2013 में महज आठ वर्ष की उम्र में ही मुंबई की फेमस कंगा क्रिकेट लीग में डेब्यू करने वाले सबसे कम उम्र के खिलाड़ी बन गए थे. इतनी कम उम्र में ही वह बेहतरीन स्पिन गेंदबाजी करते हैं. 2013 में एक फ्रेंडली मैच में उन्होंने युवराज सिंह को आउट करके सबको हैरान कर दिया था.

सरफराज खान बेहद प्रतिभाशाली हैं और उनके अंदर टीम इंडिया का अगला सुपर स्टार बनने का माद्दा है. अगर जल्द ही वह नीली जर्सी में टीम इंडिया को मैच जिताते दिखें, तो हैरान मत होइएगा!

loading...